“राम मंदिर : धार्मिक उत्सव का प्रतीक 2024”

1
47
राम मंदिर

रामलला का मंदिर ऐसे ही दिव्य और भव्य नहीं कहा जा रहा | श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने राम मंदिर की लंबाई ,ऊंचाई और चौड़ाई का ब्यौरा दिया है | इसके साथ ही राम मंदिर परिसर में क्या-क्या होगा, इसकी भी जानकारी दी गई

राम मंदिर की विशेषताएं-

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने अयोध्या राम मंदिर की विशेषताएं गिनाई हैं | ट्रस्ट ने जानकारी साझा की है की मंदिर परिसर में सभी क्षेत्रों से लेकर भगवान श्री राम के गर्भ ग्रह तक मंदिर की भव्यता कैसी रहेगी |

तीन मंजिला राम मंदिर पारंपरिक नगर शैली में बनाया गया है | मुख्य गर्भ गृह में श्री राम लाल की मूर्ति है और पहली मंजिल पर श्री राम दरबार होगा | श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अनुसार राम मंदिर में पांच मंडप (हॉल )होंगे | इसमें नृत्य मंडप ,रंग मंडप, सभा मंडप, प्रार्थना और कीर्तन मंडप |

देवी देवताओं की मूर्तियां मंदिर के स्तंभों और दीवारों को सुशोभित करते हैं | 32 सीढ़ियां चढ़कर श्रद्धालु सिंह द्वार में एंट्री कर सकेंगे | मंदिर के चारों तरफ आयताकार परकोटा रहेगा | मंदिर में दिव्यांग और बुजुर्ग तीर्थ यात्रीके लिए भी विशेष सुविधाएं हैं | रैंप और लिफ्ट भी है |

मंदिर ट्रस्ट का कहना है कि मंदिर के पास एक ऐतिहासिक कुआं (सीताकूप) है, जो प्राचीन काल का है | इसके अलावा 25000 लोगों की क्षमता वाला एक तीर्थ यात्री सुविधा केंद्र (सीएफसी) का निर्माण किया जा रहा है | यह तीर्थ यात्रियों के लिए चिकित्सा सुविधा और लॉकर सुविधा प्रदान करेगा |

1.मंदिर की लंबाई (पूर्व से पश्चिम)380 फीट ,चौड़ाई 250 फीट और ऊंचाई 161 फिट है |

2.मंदिर तीन मंजिला है, जिसकी प्रत्येक मंजिल 20 फीट ऊंची है | इसमें कुल 392 खंबे हैं , 44 दरवाजे हैं |

3.मुख्य गर्भ ग्रह में भगवान श्री राम का बचपन का स्वरूप (श्री राम लाल की मूर्ति ) है ,जबकि पहली मंजिल पर श्री राम का दरबार होगा |

4.पांच मंडप(हॉल) -नृत्य मंडप ,रंग मंडप, सभा मंडप ,प्रार्थना और कीर्तन मंडप |

5.देवी देवताओं की मूर्तियां खम्बों और दीवारों पर उकेरी गई है |

6.राम मंदिर में प्रवेश पूर्व दिशा से है, सिंह द्वार से 32 सीढ़ियां चढ़कर प्रवेश होगा |

7.दिव्यांगों और बुजुर्गों की सुविधाओं के लिए रैंप और लिफ्ट की व्यवस्था है |

8.मंदिर के चारों तरफ आयताकार परकोटा होगा | चारों दिशाओं में इसकी कुल लंबाई 732 मीटर और चौड़ाई 14 फिट है |

9.राम मंदिर परिसर के चारों कोनों पर चार मंदिर होंगे ,इनमें सूर्य देव ,देवी भगवती ,गणेश भगवान और भगवान शिव को समर्पित होंगे
| उत्तरी भुजा मेंअन्नपूर्णा का मंदिर जबकि दक्षिणी भुजा में हनुमान जी का मंदिर है |

10.मंदिर के पास एक ऐतिहासिक कुआं (सीता कूप) है जो प्राचीन काल का है |

11.श्री राम जन्मभूमि मंदिर परिसर में प्रस्तावित अन्य मंदिर महर्षि वाल्मीकि ,महर्षि वशिष्ठ ,महर्षि अगस्त्य, महर्षी विश्वमित्र ,निषाद राज ,माता शबरी और देवी अहिल्या की पूज्य पत्नी को समर्पित रहेंगे

12.राम मंदिर परिसर के दक्षिण पश्चिमी भाग में कुबेर टीला पर जटायु मंदिर की स्थापना की जाएगी |

13.मंदिर में कहीं भी लोहे का इस्तेमाल नहीं किया गया है |

14.मंदिर को जमीन की नमी से सुरक्षा के लिए ग्रेनाइट का इस्तेमाल कर 21 फीट ऊंचे चबूतरे का निर्माण किया गया है

राम मंदिर
Credit : Times Now

राम मंदिर की सुविधाएँ-

1.मंदिर परिसर में एक सीवेज उपचार संयंत्र ,जल उपचार संयंत्र, अग्नि सुरक्षा के लिए जल आपूर्ति और एक स्वतंत्र बिजली स्टेशन है |

2. 25000 लोगों की क्षमता वाला एक तीर्थ यात्री सुविधा केंद्र (सीएफसी) का निर्माण किया जा रहा है यह तीर्थ यात्रियों को चिकित्सा सुविधा और लाकर सुविधा प्रदान करेगा |
3.परिसर में स्नान क्षेत्र, वॉशरूम ,वॉश बेसिन ,खुले नाल आदि के साथ एक अलग ब्लॉग भी होगा |

4.मंदिर का निर्माण पूरी तरह से भारत की पारंपरिक और स्वदेशी तकनीक का उपयोग करके किया जा रहा है इसका निर्माण पर्यावरण जल संरक्षण पर विशेष जोर देते हुए किया जा रहा है |

5. 70 एकड़ क्षेत्र के 70% हिस्से को हरा-भरा रखा गया है |

अयोध्या चलो अभियान

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र प्राण प्रतिष्ठा के बाद रामलला व नवनिर्मित मंदिर के दर्शन के लिए लोगों को परिवार सहित 22 जनवरीको आने का न्योता भी दे रहा है | इसके अलावा 26 जनवरी को संघ परिवार देशभर में संघ दृष्टि से बटें 45 प्रांतो के राम भक्तों को कार्यक्रम के अनुसार अयोध्या बुलाकर दर्शन कराएगा | ऐसे राम भक्तों की संख्या 71 हजार से ज्यादा बताई जा रही है |प्रतिदिन करीब 4000 राम भक्तों को अयोध्या बुलाने की योजना है , उनके आने-जाने ,ठहरने, दर्शन और भोजन तक की पूरी ज़िम्मेदारी संघ परिवार ही उठाएगीं |

Ram mandir inaugration

अक्षत वितरण में श्री राम जय राम जय जय राम पाठ का आवाहन

सोमवार से श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र की ओर से पूरे देश में अक्षत वितरण कार्यक्रम शुरू हुआ है | इसके जरिए आवाहन किया जा रहा है कि 22 जनवरी को जब रामलला के बाल रूप नूतन विग्रह को गर्भगृह में विराजित कर प्राणप्रतिष्ठा की जाए उस समय आस पड़ोस के किसी मंदिर में राम भक्त इकट्ठा होकर इस कार्यक्रम को टीवी, एलइडी स्क्रीन पर या पर्दे पर देखें | भजन कीर्तन और आरती के साथ श्री राम जय राम जय जय राम महामंत्र का 108 बार सामूहिक पाठ करें |

घर-घर दीपक जलायें , दीपमालिका सजा कर दीपोत्सव मनाए | हिंदू संगठनों का मानना है कि इससे अद्भुत पूर्व सकारात्मक वातावरण बनेगा, यह संकल्प से सिद्धि का उत्सव है |

डंकी फिल्म के बारे में इनफार्मेशन के लिए क्लिक करेhttps://ashnanews.com/dunki-box-office-vijay-shahrukh-khan-film-13-din-409-crore-par/

FAQs

  1. 1. राम मंदिर में कितनी सीढ़िया चढ़नी होगी ?

    32 सीढ़िया

  2. 2. राम मंदिर में कितने मंडप होंगे?

    पांच मंडप(हॉल) -नृत्य मंडप ,रंग मंडप, सभा मंडप ,प्रार्थना और कीर्तन मंडप |

  3. 3. राम मंदिर उद्घाटन कब है ?

    22 जनवरी

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here