अरुण योगीराज: एमबीए पास 5 वी पीढ़ी के मूर्तिकार की कहानी

1
54
ARUN YOGIRAJ - THE MAN BEHIND RAM MURTI
अरुण योगीराज

कौन है अरुण योगीराज?

योगीराज कर्नाटक के मैसूर के रहने वाले हैं | मूर्तिकार परिवार से ताल्लुक रखने के कारण योगीराज बचपन से ही मूर्ति कला के काम से जुड़े रहे | हालांकि उन्होंने मैसूर विश्वविद्यालय से एमबीए की पढ़ाई पूरी की और करियर की शुरुआत एक प्राइवेट कंपनी में काम करके की | बाद में वह अपने अंदर के मूर्तिकार को रोक ना सके और नौकरी छोड़कर 2008 में मूर्तिकला के क्षेत्र में काम करना शुरू किया

अरुण योगीराज की उपलब्धियां

मूर्तिकार को कला क्षेत्र में उनके सराहनीय कार्य के लिए कई संस्थाएं सम्मानित कर चुकी हैं | मैसूर के शाही परिवार ने भी उन्हें विशेष सम्मान दिया है| इसके अलावा संयुक्त राष्ट्र संगठन के पूर्व महासचिव कोफी अन्नान ने भी उनकी कार्यशाला का दौरा करके सराहना की थी |

मैसूर जिला प्रशासन ने नलवाड़ी पुरस्कार 2020, कर्नाटक शिल्प परिषद ने 2021 में मानव सदस्यता ,भारत सरकार द्वारा साउथ जोन यंग टैलेंटेड आर्टिस्ट अवार्ड 2014 ,शिल्पा कौस्तुभ पुरस्कार, मैसूर जिले की खेल अकादमी में सम्मानित और कर्नाटक के मुख्यमंत्री ने सम्मानित किया है

अरुण योगीराज का बतौर मूर्तिकार करियर

योगीराज ने इसके पहले दिल्ली के इंडिया गेट पर अमर जवान ज्योति स्थल के पीछे स्थापित सुभाष चंद्र बोस के 30 फीट ऊंची प्रतिमा बनाई थी | इस मूर्ति को भव्य छतरी के नीचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्थापित किया था | इसके अलावा केदारनाथ धाम में स्थापित आदि शंकराचार्य की 12 फीट ऊंची प्रतिमा भी ने ही बनाई है | साथ ही मैसूर में 21 फीट ऊंची हनुमान प्रतिमा को भी उन्होंने ही तराशा है | वर्तमान में योगीराज देश के सबसे अधिक व्यस्त मूर्तिकारों में से एक माने जाते हैं

योगीराज एक प्रेरणा

एक युवा एमबीए स्नातक ,आसानी से एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में एक आरामदायक स्थिति में बस सकता था, लेकिन उसने अपने पिता- योगीराज शिल्पी ,जो खुद एक प्रसिद्ध मूर्तिकार है, की सहायता करने का फैसला किया|

2008 में अरुण ने एक निर्णायक विकल्प चुना | उन्होंने अपने कॉरपोरेट सूट को एक मूर्तिकार के एप्रन के बदले बदल दिया,और खुद को पूरी तरह से उस कला के लिए समर्पित कर दिया जो उनकी रगों में बहती थी |

उनके स्टूडियो ने जल्द ही कमीशन का एक स्थिर प्रवाह हासिल करना शुरू कर दिया जिसका फल तब मिला जब उनकी उत्कृष्ट भगवान राम की मूर्ति को हाल ही में अयोध्या मंदिर के लिए चुना गया

राम मंदिर उद्घाटन समारोह की जानकारी के लिए क्लिक करें

योगीराज द्वारा बनाए गए विश्व प्रसिद्ध मूर्तियां

स्वामी जी शिव कुमार की 5 फीट की प्रतिमा

एक ही चट्टान से काटकर बनाई गई बृहत नदी की 6 फुट की प्रतिमा

मैसूर में स्वामी रामकृष्ण परमहंस की अदमकद प्रतिमा
हाथों से डिजाइन किए गए मंडप और पत्थरों के स्तंभों का निर्माण
मैसूर में बाबासाहेब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की लाइफ साइंस प्रतिमा जिसे सफेद संगमरमर से गड़ा गया था
मैसूर में ही भगवान विष्णु के वाहन गरुड़ के प्रतिमा
विश्व रवैया और डॉ अंबेडकर की कई प्रतिमाएं
सॉप स्टोन से महा विष्णु के साथ भगवान बुद्ध की प्रतिमा कहीं अलग-अलग डिजाइनों में
पंचमुखी गणपति की प्रतिमा5 फीट ऊंची प्रतिमा

हरित चाय के फायदेजानने के लिए क्लिक करें

FAQs

अयोध्या में रामलाल की मूर्ति किसने बनाई है ?

अरुण योगीराज

अरुण योगीराज ने क्या पढ़ाई की है?

एमबीए ग्रैजुएट

अरुण योगीराज कहां के रहने वाले हैं?

मैसूर कर्नाटक

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here